Tag Archives: ADMISSION OPEN 2022

योग दिवस पर झारखण्ड राय विश्वविद्यालय में योगाभ्यास सत्र का आयोजन

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर झारखण्ड राय विश्वविद्यालय Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi रांची के राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई ने योगाभ्यास सत्र का आयोजन किया। इस अवसर पर मार्गदर्शन देने के लिए योग प्रशिक्षक जगदीश सिंह उपस्थित थे।

इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2022 की थीम ‘मानवता के लिए योग रखी गई है। यह थीम कोविड-19 के प्रभाव को देखते हुए चुनी गई है। योग का मूल सार सिर्फ शरीर को स्वस्थ रखना या फिर दिमाग व शरीर के बीच संतुलन बनाना नहीं है, बल्कि दुनिया में मानवीय रिश्तों के बीच संतुलन बनाना भी है।

Admission Open 2022-JRU

योग प्रशिक्षक जगदीश सिंह ने योगाभ्यास सत्र से पहले विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि ” हर साल 21 जून को योग दिवस मनाने के पीछे दो कारण मुख्य कारण है, जिसमें से पहला कारण यह है कि साल के इस दिन सूर्य की किरणें सबसे ज्यादा देर तक धरती पर रहती हैं। वहीं, दूसरा कारण पौराणिक है 21 जून को ग्रीष्म संक्राति को सूर्य दक्षिणायन हो जाता है और इसके बाद आने वाली पूर्णिमा को भगवान ने शिव ने अपने सात शिष्यों को पहली बार योग की दीक्षा दी थी। ”

योगाभ्यास के एक घंटे के सत्र के दौरान सूर्य नमस्कार और प्राणायाम से जुड़े आसनों का अभ्यास कराया गया ,जिसमें एनएसएस के सक्रिय स्वयंसेवक एवं विश्वविद्यालय के कर्मचारी और शिक्षक भी शामिल हुए। Community Services – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi

2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 69वें सत्र में भाषण देते हुए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाने का प्रस्ताव रखा था. जिसके बाद 11 दिसंबर 2014 को सिर्फ 3 महीने के अंदर बहुमत के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के योग दिवस प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया गया और 21 जून 2015 को पहला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया । योग दिवस की शुरुआत 2015 को हुई थी, जिसके बाद हर साल 21 जून को दुनियाभर में योग दिवस मनाया जाता है। https://www.jru.edu.in/blog-post/nss-national-integration-camp-2022/

योग भारत की 5,000 वर्ष प्राचीन परंपरा है जो शरीर तथा मन की समरसता को प्राप्त करने के लिए शारीरिक, मानसिक एवं आध्यात्मिक गतिविधियों को जोड़ती है। योग’ शब्द संस्कृत से लिया गया है एवं इसका अर्थ -शरीर तथा चेतना का एकीकृत होना है।

माइनिंग इंजीनियरिंग : 2025 तक देश में 60 लाख रोजग़ार के नए अवसर

अगर आपकी माइनिंग में दिलचस्पी है तो आप भारत में एक माइनिंग इंजीनियर के तौर पर अपना करियर बना सकते हैं । देश में मेटल और नॉन-मेटल मिनरल्स की कोई कमी नहीं है । भारत की माइनिंग इंडस्ट्री 7 लाख से अधिक लोगों को रोज़गार मुहैया करवाती है और देश के जीडीपी में माइनिंग इंडस्ट्री का कुल योगदान लगभग 2.5 फीसदी है । भारत में कॉपर, गोल्ड, डायमंड, आयरन लीड, टंगस्टन, डोलोमाइट, कोयला, पेट्रोलियम और जिप्सम जैसे तकरीबन 90 किस्म के मिनरल्स पाए जाते हैं । ऐसे में आप खुद ही भारत में एक माइनिंग इंजीनियर के पेशे के महत्त्व और करियर ग्रोथ/ स्कोप का अंदाज़ा लगा सकते हैं ।

STRIP Mining

‘न्यू इंडिया @ 75’ मिशन के तहत नीति आयोग ने इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास के लिए “एक्स्प्लोर इन इंडिया” मिशन के तहत मिनरल्स एक्सप्लोरेशन और लाइसेंसिंग पॉलिसी को शामिल किया है ।

माइनिंग इंजीनियरिंग, इंजीनियरिंग की वह ब्रांच है जिसके तहत धरती से प्राकृतिक परिवेश में पर्यावरण के अनुकूल टेक्निक्स अपनाकर विभिन्न मेटल और नॉन मेटल मिनरल्स की तलाश और खनन (माइनिंग) किया जाता है । Diploma in Mining Engineering – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in)

माइनिंग इंजीनियर्स देश-दुनिया की विभिन्न माइनिंग कंपनियों और संबद्ध इंस्टीट्यूशन्स के लिए काम करते हैं और इन कंपनियों और इंस्टीट्यूशन्स को माइनिंग से जुड़े सारे कामकाज के लिए अपनी टेक्निकल सपोर्ट और एक्सपर्ट ओपिनियन/ सर्विसेज प्रदान करते हैं । B. Tech Mining Engineering – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in)

नई खनन नीति (खान एवं खनिज (विकास एवं नियमन) संशोधन अधिनियम, 2015) से उम्मीद की जा रही है कि 2025 तक देश में कम से कम 60 लाख रोजग़ार के नए अवसर पैदा होंगे। प्रत्येक खान में सैंकड़ों या हजारों की संख्या में कुशल एवं अकुशल लोगों की भर्ती की जाती है। किसी खान के 50-100 किलोमीटर के दायरे में, स्थानीय रोजग़ार सेवा क्षेत्र को बढ़ावा मिलता है और यह देखा गया है कि गरीबों के पोषण स्तर में काफी सुधार होता है। खनिजों की खोज और बड़े पैमाने पर उनके खनन से निश्चित रूप से खनन प्रसंस्करण और उपयोग में भी रोजग़ार के लाखों अवसर पैदा होंगे।

खनन क्षेत्र की व्यापक संभावनाओं की अनदेखी नहीं की जा सकती। प्रति व्यक्ति खनिज एवं ऊर्जा की खपत समृद्धि के महत्वपूर्ण संकेतकों में से एक है। अभी तक हम कोयला और लौह अयस्क जैसे बुनियादी खनिजों का आयात करते रहे हैं, हालांकि हमारे यहां इन खनिजों के कुछ सबसे बड़े ज्ञात भंडार हैं। नई खनन और खनिज नीति इस क्षेत्र में बदलाव लाने का प्रयास करेगी।

बीबीए इन लॉजिस्टिक्स : 2022 में इस कोर्स को कैसे करे

लॉजिस्टिक्स एक आकर्षक सेक्टर है जो सड़कमार्ग, रेलमार्ग, वायुमार्ग और जलमार्ग जैसे क्षेत्रों तक फैला हुआ है। भारत में करियर का चयन एक चुनौतीपूर्ण कार्य है इसमें किसी विशेष क्षेत्र में ग्रोथ के विकल्पों के साथ ही नौकरी की सुरक्षा आदि कई चीजें शामिल हैं, जिनके बारे में हमें काफी सोचना पड़ता है। ऐसे में अभी हम किसी ऐसे क्षेत्र की बात करें जो तेजी से उभर रहा है, तो वह लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन मैनेजमेंट है। हाल के दिनों में इस सेक्टर में काफी तेज तरक्की देखी गई है। दुनिया भर में करीब 4 करोड़ लोग इस सेक्टर में कार्यरत हैं। आर्थिक सर्वे के मुताबिक, 2021 तक यह सेक्टर 215 बिलियन डॉलर यानी करीब 15 लाख करोड़ रुपये का हो जाएगा।

भारत में भी यह उद्योग काफी तेजी से आगे बढ़ा है और इसने हजारों लोगों को रोजगार मुहैया कराया है। ऑनलाइन मार्केटप्लेस की तेज वृद्धि के साथ ही इस सेक्टर की काफी तरक्की हुई है। किसी कंपनी के सुचारू ढंग से काम करने के लिए लॉजिस्टिक्स उसकी प्राथमिक आवश्यकता है और जितना ज्यादा से ज्यादा लोग हर क्षेत्र में लॉजिस्टिक्स मैनेजमेंट के महत्व को महसूस कर रहे हैं, उतना ही यह लोगों के लिए करियर का महत्वपूर्ण विकल्प बनता जा रहा है।

क्यों फायदेमंद है?

यह ऐसा सेक्टर है जिस पर मंदी का कोई असर नहीं होता है। चाहे कैसी भी आर्थिक स्थिति हो, लॉजिस्टिक्स की जरूरत बनी ही रहेगी। ग्लोबल कंपनियां जैसे फेडेक्स, डीएचए, फ्लिपकार्ट और ऐमजॉन हमेशा इस सेक्टर के स्पेशलिस्ट की तलाश में रहती हैं जिससे इस क्षेत्र में रोजगार के अवसर काफी होते हैं। इस क्षेत्र में नौकरी काफी सुरक्षित है। अगर आपकी दिलचस्पी लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन में है और आप इस सेक्टर में कोई ऐसा कोर्स करना चहाते हैं जिससे आपका करियर सुनहरा हो तो आप झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी रांची Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi से बीबीए इन लॉजिस्टिक्स कोर्स करने पर गौर कर सकते हैं। यह इस क्षेत्र का एक अग्रणी संस्थान है। जो बीबीए लॉजिस्टिक्स में फुल टाइम कोर्स ऑफर कर रहा है।इंडस्ट्री रेडी कोर्स : बीबीए इन लॉजिस्टिक – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi

कहाँ से करें यह कोर्स :

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी, रांची ने लॉजिस्टिक्स सेक्टर स्किल कौंसिल(एलएसएससी) से एमओयू करते हुए 3 वर्षीय बीबीए इन लॉजिस्टिक्स BBA Logistics – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in) पाठ्यक्रम शुरू किया है। यह पाठ्क्रम पूर्णकालिक रोजगारपरक कार्यक्रम है जिसे केंद्रीय उच्च शिक्षा मंत्रालय (एमएचआरडी) और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय (एमएसडीई) के मार्गदर्शन में चलाया जा रहा है। यह पाठ्यक्रम उद्योग जगत की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए उसकी जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रारंभ किया गया है।

लॉजिस्टिक्स क्षेत्र में काम करने वाले लोगो को काफी बढ़िया सैलरी पैकेज दिया जाता है। इस क्षेत्र में शुरुआत में तीन-साढ़े तीन लाख से पांच लाख सालाना सैलरी आसानी से मिल जाती है। वहीं, एक लॉजिस्टिक्स मैनेजर को शुरुआत में पांच लाख रुपये तक का सालाना सैलरी दिया जाता है जो की समय और अनुभव के साथ बढ़ता जाता है।

UGC-NET-June-2022

यूजीसी नेट परीक्षा : प्रिपरेशन टिप्स 2022

UGC NTA NET एक राष्ट्रीय स्तर की पात्रता परीक्षा है, जिसका आयोजन विश्विद्यालय अनुदान आयोग (UGC) के लिए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के माध्यम से कराया जाता है। इस परीक्षा का आयोजन पोस्ट ग्रेजुएट छात्रों को भारत में विश्विद्यालय स्तर पर शिक्षक की नौकरी के लिए और पीएचडी (Ph.D) Ph.D Notification – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi स्तर के कार्यक्रमों में प्रवेश प्राप्त करने में किया जाता है। यह परीक्षा अभ्यर्थी की शिक्षण व्यवसाय और अनुसंधान की योग्यता की जाँच करती है। यह परीक्षा परास्नातक (MA) Master of Business Administration (MBA) – Jharkhand Rai University (jru.edu.in) में सम्मिलित किये गए सभी विषयों के लिए आयोजित की जाती है, आप अपने विषय के अनुसार इसकी तैयारी कर सकते है।

Admission Open 2022-JRU

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी यूनिवर्सिटी रांची में प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी के लिए एक अलग से विभाग संचालित है जिसमें विद्यार्थियों को यूजीसी नेट और गेट परीक्षा की तैयारी ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों हो तरीके से करवाई जाती है। Guidance for Competitive Exam – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi

    यूजीसी नेट परीक्षा फाइट करने के टिप्स :

  • परीक्षा की तैयारी के लिए आपको सभी विषों के अनुसार एक समय सरणी बनानी होगी।
  • जिन विषयों में आप काफी वीक है, उन विषयों में अधिक गहराई से अध्ययन करना होगा।
  • पढ़ाई करते समय आप स्वयं अपनें नोटस बनाये ताकि परीक्षा समय में आसानी से रिविजन कर सके।
  • वर्तमान समय में इंटरनेट पर लगभग सभी जानकारी उपलब्ध है, जिसकी सहायता से आप परीक्षा की अच्छी तैयारी कर सकते है।
  • पिछले वर्षो के प्रश्न पत्रों का भी अध्ययन करे इससे आपको परीक्षा प्रारूप कि जानकारी होगी।

परीक्षा में सफल होने के लिए आपको समय का बहुत ख्याल रखना होगा इसके लिए आप मॉक टेस्ट अवश्य दे।

आयु सीमा :
इस परीक्षा में जूनियर रिसर्च फैलोशिप के लिए आयु सीमा 28 वर्ष निर्धारित की गई है और सहायक प्रोफेसर के लिए आयु सीमा निर्धारित नहीं की गयी है।

शैक्षिक योग्यता :
अभ्यर्थी के परास्नातक (MA/MCA/MSC) Master of Computer Application (MCA) – Jharkhand Rai University (jru.edu.in) में न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक होने चाहिए आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए 5 प्रतिशत की छूट प्रदान की गयी है।

यूजीसी परीक्षा का आयोजन :
यूजीसी नेट परीक्षा का आयोजन वर्ष में दो बार किया जाता है, जिसकी अधिसूचना मार्च और सितम्बर में जारी की जाती है और परीक्षा का आयोजन क्रमशः जून और दिसम्बर में किया जाता है।

परीक्षा पैटर्न :
नेट परीक्षा में दो पेपर निर्धारित किये गए है, यह दोनों पेपर कम्प्यूटर बेस्ड आधारित होंगे और दोनों पेपर में वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है, प्रथम पेपर में 50 प्रश्न पूछे जायेंगे, जिनके लिए 100 अंक निर्धारित होते है और समयावधि एक घंटे की है। दूसरे पेपर में कुल 100 प्रश्न पूछे जाते है जिसके लिए 200 अंक निर्धारित किये गए गए है और इसके लिए दो घंटे का समय निर्धारित है। नेट परीक्षा में कुल 150 प्रश्न पूछे जायेंगे जिसके लिए 300 अंक निर्धारित है और समय 3 घंटे है।

पारी पेपर प्रश्नो की संख्या अंक अवधि
प्रथम I I 50 100 1 घंटा
द्वितीय II 100 200 2 घंटा
कुल 150 350 3 घंटे
Two Days National conference

राष्ट्रीय संगोष्ठी में झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी,फार्मासूटिकल साइंसेज की टीम को प्रथम पुरस्कार

करंट सिनेरिओ एंड चैलेंजेज इन फार्मासूटिकल्स साइंसेज एंड रिसर्च’ विषय पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी में झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi के फैकल्टी ऑफ़ हेल्थ साइंसेज Department of Pharmacy & Physiotherapy Jharkhand Rai University (jru.edu.in) की टीम ने शानदार प्रदर्शन करते हुए पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता की दो श्रेणियों में प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया है।

Admission Open 2022-JRU

रिसर्च से जुड़े मिसलेनियस काटेगोरी में डिपार्टमेंट ऑफ़ फार्मासूटिकल साइंसेज के प्रो. सुदीप्तो मंगल को प्रथम पुरस्कार प्राप्त हुआ है वहीं फार्मा कोग्नॉसी केटेगरी में ए न्यू विलेज डिस्पेंसरी ” थीम पर पोस्टर बनाकर बी.फार्मा Bachelor in Pharmacy (B.Pharm) – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in) सेकंड सेमेस्टर के स्टूडेंट सूरज कुमार ने प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया। पोस्टर मेकिंग कॉम्पिटिशन में 150 से ज्यादा प्रतियोगी शामिल हुए।

Two Days National conference

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी रांची की तरफ से राष्ट्रीय सेमिनार में शामिल होने के लिए 11 सदस्यीय दल में 8 स्टूडेंट और 3 शिक्षक शामिल थे।

सेमिनार में शामिल होने वाले टीम में डिपार्टमेंट ऑफ़ फार्मासूटिकल साइंसेज Diploma in Pharmacy (D.Pharm) – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in) के प्रो. सुदीप्तो मंगल, प्रो. शुभेंदु डे और प्रो. शोमा घोष और फार्मेसी स्टूडेंट सलमा लेपचा, हर्षिता चंद्रा ,ऋषभ गुप्ता,सूरज कुमार,अंकिता कुमार, स्वाति राय शामिल थी। राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन ब्रेन वेयर यूनिवर्सिटी, कोलकाता के द्वारा आयोजित किया गया था। संगोष्ठी में मुख्य अतिथि के तौर पर फार्मेसी कौंसिल ऑफ़ इंडिया(PCI) के अध्यक्ष डॉ. मोंटू एम पटेल, डेपुटी ड्रग कंट्रोलर (भारत सरकार) डॉ. अजमीरा रामकृष्णन उपस्थित थे।

फ्रेशर्स डे: झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी मिस फ्रेशर्स मुस्कान सेठी और मिस्टर फ्रेशर्स बने सैफ रजा

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi में शुक्रवार को फ्रेशर्स डे Abhivadan – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi का आयोजन किया गया। झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी कल्चरल क्लब Cultural Club – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi के सहयोग से आयोजित फ्रेशर्स डे ” अभिवादन ” में आजादी के अमृत महोत्सव के थीम पर फ्रेशर्स का वेलकम किया गया। देर शाम आयोजित इस रंगारंग कार्यक्रम में सांस्कृतिक और अकादमिक प्रस्तुतियों का तानाबाना बना गया। Annual Fest – Tarang – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi

Admission Open 2022-JRU

अभिवादन (फ्रेशर्स डे) में मिस्टर फ्रेशर का ख़िताब डिप्लोमा माइनिंग के स्टूडेंट सैफ रजा को मिला वहीं मिस फ्रेशर का ताज बैचलर ऑफ़ फिजिओथेरेपी (BPT) Bachelor of Physiotherapy (BPT) – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in) की स्टूडेंट मुस्कान सेठी ने पहना। मिस्टर वर्सटाइल बने सुलेन्द्र कुमार (BCA), जबकि मिस वर्सटाइल पर कब्ज़ा जमाया बीए एलएलबी (BA LLB) BA LLB – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in) की श्रुति आर्या ने।

‘अभिवादन’ का प्रारंभ दीप प्रज्वलित कर किया गया। इस अवसर पर झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी, रांची की कुलपति प्रो. सविता सेंगर एवं रजिस्ट्रार डॉ. पियूष रंजन ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का विधिवत आरंभ किया। विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कुलपति प्रो. सेंगर ने सांस्कृतिक और अकादमिक मूल्यों पर विचार साझा करते हुए कहा कि ” लाइफ स्किल Life Skills – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi केवल विषय के तौर पर अपना महत्व नहीं रखता बल्कि जीवन के महत्वपूर्ण क्षणों में भी यह मददगार साबित होता है।

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ. पियूष रंजन ने विजेताओं के नाम की घोषणा की। रजिस्ट्रार डॉ. पियूष रंजन ने “विजेताओं को अपनी शुभकामनायें देते हुए फ्रेशर्स डे में शामिल सभी प्रतिभागियों को और मंच पर प्रतिभा का प्रदर्शन करने वाले प्रतिभागियों का हौसला बढ़ाया। उन्होंने फ्रेशर्स डे आयोजित करने वाली कल्चरल क्लब टीम के सदस्यों को भी सफल आयोजन के लिए धन्यवाद दिया।“

मिस्टर और मिस फ्रेशर्स के चयन के लिए निर्णायक मंडल में डीन स्टूडेंट वेलफेयर प्रो. सव्यसाची चक्रवर्ती, डीन मैनेजमेंट डॉ. हरमीत कौर, डिप्टी रजिस्ट्रार (ऐकडेमिक) डॉ. श्रद्धा प्रसाद एवं असिस्टेंट रजिस्ट्रार डॉ. अमृता मजूमदार शामिल थी।

फ्रेशर्स डे अभिवादन को सफल बनाने में कल्चरल क्लब की कन्वेनर प्रो.अनुराधा शर्मा,प्रो. सुमित किशोर एवं प्रो. कुमार अमरेंद्र की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

इसके बाद डीजे नाईट विथ अलोक का आगाज हुआ जिसमें एक के बाद एक धमाकेदार सांग्स पर सारे स्टूडेंट्स ने जोरदार डांस किया।

BPT कोर्स देता है डॉक्टर बनकर प्रैक्टिस करने का सुनहरा अवसर

फिजियोथेरेपी, Bachelor of Physiotherapy (BPT) – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in) चिकित्सा विज्ञान की एक शाखा है। फिजियोथेरेपी की खासियत यह है कि इसमें इलाज के दौरान किसी भी तरह की दवाई का इस्तेमाल नहीं किया जाता। एक्ससरसाइज, इलेक्ट्रोथेरपी व मसाज जैसे तरीकों का इस्तेमाल करके व्यक्ति को उसकी स्वास्थ्य समस्या से निजात दिलाता है।

BPT Blog Strip

फिजियोथेरेपिस्ट सिर्फ अलग−अलग तरीकों से मरीजों का इलाज ही नहीं करता, बल्कि वह पेंशेंट को यह यकीन भी दिलाता है कि वह जल्द ठीक हो सकते हैं और वह भी बिना किसी दवाई के।

BPT कोर्स इन रांची :

अगर आप फिजियोथेरेपिस्ट बनना चाहते हैं तो BPT यानी (बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी) कोर्स Bachelor of Physiotherapy (BPT) – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in) बेस्ट ऑप्शन है। इसकी अवधी 4 वर्ष होती है और विज्ञान विषयों के साथ 12 वीं पास विद्यार्थी इसमें नामांकन ले सकता है।

बैचलर ऑफ़ फिजिओथेरेपी की पढ़ाई के लिए झारखण्ड,रांची में झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi एक विश्वसनीय नाम है। यूजीसी और नैक की मान्यता प्राप्त यह यूनिवर्सिटी बिहार, झारखण्ड, उड़ीसा और पश्चिम बंगाल का एकलौता निजी विश्वविद्यालय है। Museum – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi बेहतरीन इंफ्रास्ट्रक्चर, इंडस्ट्री फ्रेंडली करिकुलम, अनुभवी शिक्षक, प्रैक्टिकल बेस्ड एजुकेशन, लैबोरेटरी और एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी के कारण इसे कौंसिल द्वारा मान्यता प्रदान किया गया है। Physiotherapy Lab. – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi

BPT में करियर :

आजकल जिस तरह बीमारियां पैर पसार रही हैं, उसे देखते हुए यह कोर्स आज कल डिमांड में है। अस्पतालों व क्लिनकि, रिहैबिलिटेशन सेंटर, ओल्ड एज होम्स, हेल्थ सेंटर्स, नर्सिंग होम्स एंड डे सेंटर्स, स्पोर्ट्स क्लिनकि, क्लब, जिम सेंटर्स सभी जगह फिजियोथेरेपिस्ट कार्य करते हुए मिल जाएंगे। इसके अलावा अनुभव प्राप्त होने पर आप अपना खुद का फिजियोथेरेपी सेंटर भी चला सकते हैं।

एक अनुमान के मुताबिक़ शुरूआती दौर में आप दस से बीस हजार रूपए प्रतिमाह से शुरुवात कर कुछ समय के बाद आसानी से महीने के 30,000 से 50,000 रूपए भी कमा सकते हैं। अगर आप अपना प्राइवेट सेंटर खोलते हैं तो आप सिटिंग के हिसाब से चार्ज कर सकते हैं।

फिजियोथेरेपी यूं तो आधुनिक चिकित्सा पद्धति है। लेकिन यह भारत में सदियों से प्रचलित स्पर्श चिकित्सा पद्धति का भी प्रतिनिधित्व करता है। यह न केवल कम खर्चीला है, बल्कि इसके दुष्प्रभाव की आशंका न के बराबर होती है।

IMG-20220518-WA0002

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी में सिम्पोजियम और माइन विज़ार्ड का आयोजन

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi के डिपार्टमेंट ऑफ़ माइनिंग इंजीनियरिंग Department of Mining Engineering – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi में “स्कोप एंड कैरियर ऑफ़ माइनिंग इंजीनियर्स इन इंडस्ट्री” विषय पर सिम्पोजियम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता तौर पर एचईसी के पूर्व सीएमडी प्रो. अभिजीत घोष एवं सीएमपीडीआईएल के पूर्व जेनेरल मैनेजर देबाशीष बसु उपस्थित थे।

Admission Open 2022-JRU

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी की कुलपति प्रो. सविता सेंगर एवं रजिस्ट्रार डॉ. पियूष रंजन ने संयुक्त रूप से अतिथियों को पौधा एवं मोमेंटो देकर सम्मानित किया।

सम्मान समारोह के उपरांत सर्वप्रथम विषय प्रवेश करते हुए प्रो. अभिजीत घोष ने माइनिंग इंजीनियरिंग एवं माइनिंग और कोल् के महत्व पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा की ” यह इंजीनियरिंग का एक ओल्डेस्ट फॉर्म है जो ऐसी टेक्नोलॉजी और टेक्निक से डील करता है जो पृथ्वी में मौजूद मिनिरल की पहचान करने के साथ उसे एक्सपेक्ट करने में मददगार है। यह ऐसा एसेसियल फील्ड है जो देश की इकॉनमी में डायरेक्ट कंट्रीब्यूट करता है। एक माइनिंग इंजीनियर धरती से मिनिरल निकलने के लिए तो होता ही है साथ ही माइनिंग के डेवलपर प्रोसेस इन्स्योर करना भी उसकी ड्यूटी में शामिल है।” B. Tech Mining Engineering – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in)

सिम्पोजियम के दूसरे वक्ता सीएमपीडीआईएल के पूर्व जेनेरल मैनेजर देबाशीष बसु ने अपने व्याख्यान के दौरान माइनिंग इंजीनियरिंग की पढ़ाई, तकनिकी कौशल विकास, प्रशिक्षण और रोजगार के अवसरों पर विस्तार पूर्वक अपनी बातें रखी। उन्होंने विद्यार्थियों के साथ अपना निजी अनुभव साझा करते हुए बताया की माइनिंग इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों को पढ़ाई पूरी करने के बाद पांच वर्ष तक कड़े परिश्रम करने के लिए तैयार रहना चाहिए। इस दौरान प्रतिदिन कुछ नया सिखने की कोशिश करना जीवन में बेहद मददगार साबित होता है। Diploma in Mining Engineering – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in) उन्होंने कहा कि देश में माइनिंग इंजीनियर्स की डिमांड काफी तेजी के साथ बढ़ती जा रही है। झारखण्ड के विद्यार्थियों के लिए सीसीएल, मेकॉन, सीएमपीडीआई, एचईसी, सेल जैसे बड़े उद्यमों का राज्य में होने का सबसे बड़ा फ़ायद छात्रों को मिलने वाला एक्सपोज़र है। https://www.jru.edu.in/blog-post/which-industry-is-hiring-engineers/

सिम्पोजियम के उपरांत विभाग द्वारा माइन कार्निवल का आयोजन किया गया । यूनिवर्सिटी के सेमिनार हाल में आयोजित प्रदर्शनी में माइनिंग विषय से जुड़े चित्रों की प्रदर्शनी लगायी गयी एवं कई मॉडलों का प्रदर्शन भी किया गया। प्रदर्शित मॉडलों में एंट्रेंस कोल माइन, चौक शील्ड सपोर्ट, एरियल रोपवे, बोड एंड पिलर वर्किंग मॉडल, शील्ड सपोर्ट, अंडरग्राउंड वर्किंग जैसे मॉडल प्रदर्शित किये गए। https://www.jru.edu.in/blog-post/mining-engineer-bankar-sawaren-apna-bhavishya/ जूरी द्वारा प्रथम पुरस्कार एरियल रोपवे, द्वितीय पुरस्कार बोड एंड पिलर वर्किंग मॉडल , तृतीय पुरस्कार शील्ड सपोर्ट और जूरी का विशेष पुरस्कार अंडरग्राउंड वर्किंग मॉडल को दिया गया। सभी विजेता टीमों को मोमेंटो और प्रमाणपत्र प्रदान किया गया।

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ. पियूष रंजन ने धन्यवाद् ज्ञापन करते हुए कहा की विश्वविद्यालय ने विद्यार्थियों के व्यावहारिक प्रशिक्षण के लिए इंडस्ट्रियल टूर, एक्सपोज़र विजिट, एक्सपर्ट टॉक, गेस्ट लेक्चर को पाठ्क्रम का अनिवार्य अंग बनाया है। विश्वविद्यालय ने माइनिंग इंजीनियरिंग के विद्यार्थियों का गैस टेस्टिंग एग्जामिनेशन और लैंप हैंडलिंग सर्टिफिकेट एवं पीडीपीटी ट्रेनिंग में सौ प्रतिशत सफलता का रिकॉर्ड स्थापित किया है। उन्होंने उपस्थित अतिथियों का सिम्पोजियम में उपस्थित होकर माइनिंग के क्षेत्र में अवसरों पर अपने विचार साझा करने के लिए धन्यवाद किया। https://www.jru.edu.in/blog-post/mining-engineering-admission-2022/ कार्यक्रम को सफल बनाने में माइनिंग इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के समन्वयक प्रो. सुमीत किशोर,व्याख्याता मृत्युंजय कुमार,व्याख्याता सूरज देव सिंह, व्याख्याता उमेश कुमार मिस्त्री की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

कृषि स्नातकों के लिए सुनहरा मौका : गार्डेन अधीक्षक पद पर नियुक्ति के लिए आवेदन आमंत्रित

झारखण्ड कर्मचारी चयन आयोग Home | Jharkhand Staff Selection Commission | Government of India (jssc.nic.in) ने झारखण्ड नगरपालिका सेवा संवर्ग संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा 2022 के विभिन्न अराजपत्रित पदों पर भर्ती हेतु ऑनलाइन आवेदन आमंत्रित किया है। http://jssc.nic.in/notices/advertisements कार्मिक, प्रशासनिक सुधार तथा राजभाषा विभाग, झारखण्ड सरकार द्वारा नगर विकास एवं आवास विभाग, रांची के अंतर्गत गार्डेनअधीक्षक,भेटनरी ऑफिसर,सेनेटरी एण्ड फूड इंस्पेक्टर, सेनेटरी सुपरवाईजर, राजस्व निरीक्षक एवं विधि सहायक के पदों पर नियुक्ति के लिए आवेदन प्रकाशित किया गया है।

Admission Open 2022-JRU

आयोग द्वारा प्रकाशित विभिन्न अराजपत्रित पदों में गार्डेन अधीक्षक पद के लिए 12 पदों पर नियुक्ति किया जाना है। इसके लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय/संस्थान से कृषि विज्ञान/हार्टिकल्चर/वानिकी में स्नातक है। B.Sc Agriculture – Jharkhand Rai University, Ranchi (jru.edu.in)

परीक्षा का स्वरूप:-

आयोग द्वारा ओ॰एम॰आर॰ आधारित परीक्षा ली जायेगी। अभ्यर्थियो की मेधा सूची उनके प्राप्तांक के नॉर्मलाइजड अंक के आधार पर तैयार किया जायेगा तथा परीक्षाफल

प्रकाशन के पश्चात उन्हें नॉर्मलाइजड अंक ही दिया जायेगा। Fully Automated Polyhouse – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi

परीक्षा का पाठ्यक्रम :

परीक्षा एक चरण (मुख्य परीक्षा) में ली जाएगी। परीक्षा में सभी प्रश्न वस्तुनिष्ठ एवं बहुविकल्पीय उत्तर के होंगे। एक प्रश्न का पूर्णांक तीन होगा। प्रत्येक सही उत्तर के लिए तीन अंक दिए जायेंगे और प्रत्येक गलत उत्तर के लिए एक अंक की कटौती की जाएगी। भाषा विषय को छोड़कर अन्य विषयों के प्रश्न हिंदी और अंग्रेजी भाषा में होंगें। Dedicated Agriculture Land – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi

मुख्य परीक्षा :

मुख्य परीक्षा के लिए तीन पत्र होंगें। परीक्षा तीन पालियों में आयोजित होगी। इसमें निम्न विषय शामिल होंगे।

पत्र -1 ( भाषा ज्ञान ) कुल प्रश्न 120, परीक्षा अवधी -2 घंटा

हिंदी भाषा -60 प्रश्न

अंग्रेजी भाषा -60 प्रश्न

पत्र -2 ( जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा, कुल प्रश्न 100, परीक्षा अवधी -2 घंटा )

उर्दू /संथाली/बंगला/मुंडारी,हो खड़िया, कुड़ुक (उरांव)/ कुरमाली/ खोरठा/ नागपुरी/पंचपरगनिया/ उड़िया में से किसी एक भाषा की परीक्षा विकल्प के आधार पर अभ्यर्थी दे सकेंगे। इस परीक्षा में संबंधित भाषा के 100 बहुवैकल्पिक प्रश्न पूछे जायेंगे। उक्त पत्र के परीक्षा की अवधि 2 घंटा होगी। JHARKHAND RAI UNIVERSITY (JRU RANCHI) REVIEWS & RANKINGS – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi

चिन्हित क्षेत्रीय / जनजातीय भाषा में 30% अंक प्राप्त करना अनिवार्य होगा।

पत्र – 3 तकनीकी/विशिष्ट विषय एवं सामान्य ज्ञान की परीक्षा

कुल प्रश्न-150, परीक्षा अवधि- 2 घंटा 30 मिनट

(A) तकनीकी/विशिष्ट विषय – 100 प्रश्न

(B) सामान्य अध्ययन – 20 प्रश्न

(C) सामान्य गणित – 20 प्रश्न

(D) सामान्य विज्ञान – 10 प्रश्न

तकनीकी/ विशिष्ट विषय में 30 प्रतिशत अंक प्राप्त करना अनिवार्य होगा।

ऑनलाइन आवेदन आयोग की वेबसाइट Home | Jharkhand Staff Selection Commission | Government of India (jssc.nic.in) पर लॉग इन कर समर्पपत किया जा सकता है।

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी में ग्रोइंग आईटी इंडस्ट्री एंड नीड ऑफ़ प्रोफेशनल पर एक्सपर्ट टॉक का आयोजन

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi के डिपार्टमेंट ऑफ़ कंप्यूटर साइंस एंड इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी B. Tech Computer Science Engineering – Jharkhand Rai University (jru.edu.in) में गुरुवार को एक्सपर्ट टॉक का आयोजन किया गया। ‘ग्रोइंग आईटी इंडस्ट्री एंड नीड ऑफ़ प्रोफेशनल ‘ विषय पर आयोजित टॉक में मुख्य वक्ता ब्राइट कोड सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ धनेश महतो थे। कार्यक्रम के दौरान उन्हें विभाग के द्वारा पौधा देकर सम्मानित किया गया।

कंप्यूटर साइंस और लैंग्वेज Master of Computer Application (MCA) – Jharkhand Rai University (jru.edu.in) से जुड़े महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विस्तार पूर्वक चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि ” आईटी इंडस्ट्री सबसे फ़ास्ट ग्रोइंग इंडस्ट्री है और सभी सेक्टर्स इसपर निर्भर करते है। सोशल मीडिया के साईट्स, वेब पेज, वेबसाइट ये सब कंप्यूटर आधारित भाषा और डेटा पर कार्य करते है। बैंकिंक प्रणाली और बड़े बड़े उद्योग, यूनिवर्सिटी और तमाम चीजें जिनका इस्तेमाल हम और आप बड़े आसानी के साथ करते है सभी कंप्यूटर आधारित सेवाओं से जुड़े हुए है। ”

डेटा साइंस और सर्विसेज की बात करते हुए उन्होंने स्टूडेंट्स को समझाया की ‘ वर्तमान समय में डेटा साइंस एक तेजी से उभरता सेक्टर है। बड़ी कंपनियां अपनी सेवाओं के बदले कोई चार्ज नहीं करती है लेकिन उन्हें इन सेवाओं के बदले जो डेटा प्राप्त होता है उसकी कीमत बाजार में बहुत ज्यादा है।

एंटरप्राइज रिसोर्स प्लानिंग (ERP) की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि ” यह एक बिजनेस डेवलपमेंट सॉफ्टवेयर है इसका इस्तेमाल बिजनेस ऑपरेशन को और बेहतर करने के लिए किया जाता है। किसी भी यूनिवर्सिटी या कॉलेज के लिए ईआरपी बनाते समय पलानिंग और रिसोर्स की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। उन्होंने ब्‍लॉकचेन तकनीक पर भी अपने अनुभव साझा करते हुए बताया और कहा कि “ब्लॉकचेन एक डिजिटल लेजर है। यह तकनीक आईटी इंडस्ट्री को उसी प्रकार से बदलने वाला है, जैसे कि ओपन सॉर्स सॉफ्टवेयर ने एक दशक पहले किया था। जिस प्रकार लिनक्स लगभग एक दशक से मॉडर्न एप्लीकेशन डेवलपमेंट का मूल रहा है, ठीक वैसे ही ब्लॉकचेन भी आने वाले समय में एक बहुत ही बेहतरीन जरिया बनने वाला है । BCA (Bachelor of Computer Application) – Jharkhand Rai University (jru.edu.in) एक्सपर्ट टॉक के दौरान उन्होंने छात्रों के सवालों का भी जवाब दिया और आईटी क्षेत्र के जॉब्स और जरूरतों पर भी विचार साझा किया।

एक्सपर्ट टॉक के दौरान डिपार्टमेंट ऑफ़ सीएस एंड आईटी के शिक्षक Faculty of Computer Science & IT – Jharkhand Rai University (JRU), Ranchi और छात्र उपस्थित थे। कार्यक्रम के दौरान मुख्य रूप से कोर्डिनेटर प्रो. अनुराधा शर्मा,प्रो. कुमार अमरेंद्र,डॉ. आशीष सिन्हा एवं प्रो. राजन तिवारी उपस्थित थे।