Tag Archives: SUCCESSFUL BTECH STUDENTS RANCHI

Job-Interview

12 वीं के बाद चाहिए जॉब: इन कोर्सेज में है जॉब की गारंटी

बारहवीं के रिजल्ट जारी हो चुके हैं। जैक बोर्ड, सीबीएसई, आईसीएसई बोर्ड द्वारा आयोजित होने वाली परीक्षाओं के परिणाम घोषित हो चुके हैं। बारहवीं के बाद छात्रों के मन में सबसे बड़ा सवाल ये खड़ा होता है कि आगे वो किस क्षेत्र में अपना करियर बनाएं। भीड़ से अलग दिखने वाले कोर्सेज ही सफलता की गारंटी है जरुरी नहीं। पारंपरिक कोर्सेज आज भी लोकप्रिय और रोजगारपरक बने हुए है।एक नजर वैसे कोर्सेज पर जो बारहवीं के बाद आप कर सकते है जिनसे व्यक्तित्व तो निखरेगा ही, साथ ही अच्छे पैसे भी कमा सकते हैं।

https://www.jru.edu.in/blog-post/which-industry-is-hiring-engineers/

पारंपरिक कोर्स :

  • मास्टर ऑफ़ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन (एमबीए )
  • बैचलर ऑफ़ बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन (बीबीए )
  • मास्टर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन (एमसीए )
  • बैचलर ऑफ़ कंप्यूटर एप्लीकेशन (बीसीए )
  • बैचलर ऑफ़ इंजीनियरिंग (बीटेक )
  • डिप्लोमा इन इंजीनियरिंग ( डीई )

https://www.jru.edu.in/blog-post/mining-engineer-bankar-sawaren-apna-bhavishya/

आज कल का ट्रेंड :
12 वीं के बाद रोजगार देने वाले कोर्स की बात करें तो आज भी एग्रीकल्चर और फार्मेसी अपना क्रेज बनाये हुए है। ये दोनों ही कोर्स मार्केट में अपनी मजबूत उपस्थिति रखते है और स्टूडेंट्स को आकर्षितकरते है।

  • डिप्लोमा इन फार्मेसी ( डी. फार्म )
  • बैचलर ऑफ़ फार्मेसी ( बी. फार्म )
  • बैचलर और साइंस इन एग्रीकल्चर (बीएससी एग्रीकल्चर )

https://www.jru.edu.in/blog-post/bba-logistics-ranchi-college/

जरा हटके कोर्स :

  • माइनिंग इंजीनियरिंग
  • डिप्लोमा इन माइनिंग इंजीनियरिंग
  • बीटेक इन माइनिंग इंजीनियरिंग

10 वीं उत्तीर्ण छात्र डिप्लोमा में ले सकते है नामांकन

  • पोस्ट डिप्लोमा प्रैक्टिकल ट्रेनिंग ( पीडीपीटी) इन माइनिंग।
  • पोस्ट ग्रेजुएट प्रैक्टिकल ट्रेनिंग (पीजीपीटी ) इन माइनिंग।
  • ओवरमैन सर्टिफिकेट ऑफ़ कॉम्पिटेंसी।
  • औद्योगिक प्रशिक्षण के दौरान 9000 तक छात्रवृति सुविधा।
  • इंटर्नशिप / ट्रेनिंग ( सीसीएल, एनसीएल, एचसीएल , इसीएल,बीसीसीएल, सेल टाटा स्टील)

बीबीए इन लॉजिस्टिक्स | हाई लाइट्स ऑफ़ द कोर्स :

  • सरकार के उच्च शिक्षा मंत्रालय और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय द्वारा संचालित।
  • इंडस्ट्रियल सेक्टर की जरूरतों को पूरा करने वाला।
  • स्किल्ड और इंडस्ट्री रेडी बनाने में मददगार ।
  • लाइफ स्किल्स और पर्सनालिटी डेवलपमेंट ।
  • पढ़ाई के दौरान 18 महीने का औद्योगिक प्रशिक्षण।
  • प्रत्येक प्रशिक्षण समाप्त होने पर सरकार द्वारा प्रमाणपत्र।
  • औद्योगिक प्रशिक्षण के कार्य अनुभव को मान्यता।
  • औद्योगिक प्रशिक्षण के दौरान 9000-15000 छात्रवृति सुविधा।
  • ग्रामीण छात्रों के लिए रोजगार प्राप्त करने का सुनहरा अवसर।
  • लॉजिस्टिक्स सेक्टर स्किल कौंसिल द्वारा नौकरी की सुविधा।
  • स्टार्टअप्स और इंटरप्रेन्योर बनने का अवसर।
Webinar 23 May Civil

Webinar on: “Construction Methodology and Management”

Speaker: Mr. Devanand Jha
Senior Executive Engineer, Indian Institute of Technology (IIT), Patna.

Date: May 23, 2020
Time: 11:00 am
Platform : Webex Meet
E-Certificates for all the participants

Register Now
Feedback Form Link

Organized by Department of Civil Engineering, JRU

EEE 20 to 24 May

One Week Workshop on Design & Fabrication of Electronics Devices

Eligibility : Science & Engineering Students

Seats : 60 Only

Registration Fee : Nil

E-Certificate : To all Participants

Date: 20 -24 May, 2020
Time : 10:30 am – 12:30 pm
Platform : Google Meet

Register Now
Feedback Form Link

Organized by Department of Electrical Engineering, JRU

LOCKDOWN AND ONLINE EDUCATION

डिजिटल एजुकेशन और लॉक डाउन 4.0

कोरोनावायरस के कारण फिलहाल देशभर में लॉकडाउन 4.0 चल रहा है। फिलहाल सभी स्कूल, कॉलेज एवं अन्य शिक्षण संस्थान बंद है।

यूजीसी द्वारा जारी गाइडलाइन्स में कहा गया है कि कोरोना संकट के समाप्त होने के बाद भी अब विभिन्न विश्वविद्यालयों में 25 प्रतिशत शिक्षण कार्य ऑनलाइन माध्यमों के जरिए पूर्ण किया जाएगा. इसके अलावा सभी कॉलेजों में वायवा(viva) ऑनलाइन लेने की सिफारिश भी की गई है।

यूजीसी द्वारा गठित की गई विशेष कमेटी ने यह सिफारिश की है, जिसे स्वीकार किया जा चुका है। समिति ने अपनी सिफारिशों से मानव संसाधन विकास मंत्रालय को अवगत करा दिया है।
ऑनलाइन शिक्षा आधारित इस नीति के तहत देशभर के विभिन्न कॉलेजों में फिलहाल 75 फीसदी पढ़ाई क्लासरूम में होगी, जबकि पढ़ाई का 25 प्रतिशत हिस्सा ऑनलाइन माध्यमों के जरिए पूरा किया जाएगा. Online पढ़ाई स्काइप, सहित किसी अन्य मीटिंग एप आदि के जरिए करवाई जा सकती है।

LOCKDOWN DIGITAL ONLINE CLASSES RANCHI

कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने बीते बुधवार को विश्वविद्यालयों से कहा कि नए छात्रों के लिए सितंबर से तथा पहले से पंजीकृत छात्रों के लिए अगस्त से शैक्षिक सत्र शुरू किया जा सकता है।लंबित परीक्षाओं के बारे में, आयोग ने यह भी कहा है कि विश्वविद्यालय प्रक्रिया को कम समय में पूरा करने के लिए वैकल्पिक और सरलीकृत तरीके और परीक्षा के तरीके अपना सकते हैं।

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी)

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर 29 अप्रैल, 2020 को परीक्षाओं और अकादमिक कैलेंडर पर दिशा-निर्देश जारी किए हैं। सभी विश्वविद्यालयों को इन दिशा-निर्देशों को अपनाते एवं लागू करते समय सभी हितधारकों की सुरक्षा एवं रुचि को ध्यान में रखते हुए और सभी संबंधित व्‍यक्ति‍यों के स्वास्थ्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए अपनी अकादमिक गतिविधियों या कार्यकलापों की समुचित योजना बनाने की सलाह दी गई है।

विश्वविद्यालयों से यह भी अनुरोध किया गया है कि वे इस महामारी के मद्देनजर विद्यार्थियों की परीक्षाओं और अन्य शैक्षणिक गतिविधियों या कार्यकलापों से संबंधित शिकायतों से निपटने के लिए एक विशेष प्रकोष्‍ठ बनाएं और छात्रों को इसकी सूचना दें।

इसके अलावा, यूजीसी ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर विद्यार्थियों, शिक्षकों और संस्थानों के संबंधित प्रश्नों, शिकायतों एवं अन्य शैक्षणिक मुद्दों पर गौर करने के लिए निम्‍नलिखित कदम उठाए हैं:

1. एक विशेष हेल्पलाइन नंबर: 011-23236374 निर्दिष्‍ट किया गया है।

2. एक ईमेल एड्रेस: covid19help.ugc@gmail.com सृजित किया गया है।

3. विद्यार्थी अपनी शिकायतों को यूजीसी के मौजूदा ऑनलाइन विद्यार्थी शिकायत निवारण पोर्टल https://www.ugc.ac.in/grievance/student_reg.aspx पर भी दर्ज करा सकते/सकती हैं।

4. विद्यार्थियों, शिक्षकों एवं संस्थानों की चिंताओं/शिकायतों पर गौर करने और तदनुसार ही उनका निवारण करने के लिए यूजीसी में एक टास्क फ़ोर्स का गठन किया गया है।

SUCCESSFUL STUDENTS JRU RANCHI UNIVERSITY

HARD WORK AND FOCUS : STORY OF ANKIT SINGH, B. TECH, JRU UNIVERSITY, RANCHI

Ankit Singh, BTech student of JRU, Ranchi has been selected to work as a Marketing Strategist at Jaro Toppscholars Private Limited. He believes that success is followed by sheer hard work and vice versa.

SUCCESSFUL STUDENT JRU RANCHI UNIVERSITY BTECH

Even though a young professional, he is mature about his approach towards career. He says, “Focus on what you want rather than what others are going after.”

True indeed. We decide our penchants. And what career we need to pursue according to our acumen and skills should be our decision. Taking the regular path, doing the done things does not benefit always.

SUCCESSFUL STUDENTS JRU RANCHI UNIVERSITY

Young Ankit further says, “Always update your skills, network, and work on your confidence and never feel defeated.”

SUCCESSFUL STUDENTS JRU RANCHI UNIVERSITY

This is what he said when asked about his experience at Jaro Toppscholars _ “The best part that distinguishes Jaro from other institutions is the time duration and its stellar panel of expert trainers. I would like to say that I made the right decision by joining Jaro.”

(Story contributed by Piyali Das.)

YOUNG ENGINEERS PARTICIPATE IN TECH FEST 2019 JR UNIVERSITY, RANCHI

The science club of JRU organized a Tech Fest 2019 on 15 September at the University Ranchi campus to encourage young engineers to think out of the box and to honour the contributions of Mokshagundam Visvesvaraya.

India celebrates 15 September as National Engineers’ Day to appreciate the contributions of Mokshagundam Visvesvaraya.

Visvesvaraya is known for his contributions in the field of engineering. He installed an irrigation system with water floodgates at the Khadakvasla reservoir near Pune to raise the flood supply level and storage to the highest levels. Later, this system was also installed at Gwalior’s Tigra Dam and Mysuru’s Krishnaraja Sagara (KRS) dam. KRS created one of the largest reservoirs in Asia at the time.

He served as the Diwan of Mysore and was awarded the title of ‘Knight’ in 1915 as commander of the British Indian empire. He received the Bharat Ratna in 1955 and became a member of the London Institution of Civil Engineers before he was awarded a fellowship by the Indian Institute of Science (IISC) Bangalore.

The Tech Fest 2019 at JRU was inaugurated by the Vice Chancellor, Dr Savita Sengar. During her speech, Dr Sengar reminded students of the invaluable contributions made by M Visvesvaraya.

Dr Segar added, “Tech Fest is an opportunity for students to showcase their innovative ideas, besides keeping the spark of science alive. Students presenting science models also need to remember that they have to become role models for society as well. The right combination of knowledge, science, wisdom and academics are important, but so are life skills that give us the emotional quotient to make life more meaningful. You cannot progress in life or career by ignoring these soft skills. Then progress will become imbalanced.”

Later Dr Sengar spent time with the students to inspect their science/technical models and interacted with the budding engineers to understand the idea behind their models.

Students from Faculty of Science – Engineering and Faculty of Computer Science participated in this fest. Some of the models created by students groups are – smart home, highway technology, rain water harvesting, wastage collection, waste plastic road, green building, smart city Ranchi, light fidelity communication, treatment of sea water, save water in poly house, automatic human counter and light control system, service robot, and eco-friendly cycle.

Later, University faculty members, staff and students from various departments came along to view the models and encourage the participants. The entire Tech Fest 2019 was organized under the mentorship of Prof. Raghuvansh Singh.

SUCCESSFUL BTECH STUDENTS RANCHI UNIVERSITY JRU

लखींद्र महतो, बीटेक सेवेन के स्टूडेंट ने क्विज प्रतियोगिता में दूसरा स्थान प्राप्त किया

झारखण्ड राय विशवविद्यालय के बीटेक सेवेन के  स्टूडेंट लखींद्र महतो ने जमशेदपुर में आयोजित कंप्यूटर एंड साइंस क्विज प्रतियोगिता में दूसरा स्थान प्राप्त किया है।

जमशेदपुर के किरण इंस्टिट्यूट ने  क्विज प्रतियोगिता का आयोजन किया था जिसमे  प्रथम पुरस्कार के लिए 20 हजार रूपए और दूसरे पुरस्कार के लिए 10 हजार रूपए दिए जाने थे ।

SUCCESSFUL BTECH STUDENTS RANCHI UNIVERSITY JRU

खरसावां जिले का रहनेवाला लखींद्र के लिए जमशेदपुर घर की तरह है।  जमशेदपुर में पढ़ाई कर रहे लखींद्र के दोस्तों ने इसकी  सूचना रांची में लखींद्र को देते हुए कहा की कंप्यूटर और साइंस सब्जेक्ट को लेकर आयोजित किये जा रहे क्विज प्रतियोगिता में जरूर शामिल हो.

लखींद्र  अपनी जीत के बाद बेहद उत्साहित है और अपने अनुभव साझा करते हुए कहता है ” कंप्यूटर और साइंस मेरे पसंदीदा सब्जेक्ट रहे है इस कारन मैं क्विज प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए तुरंत हाँ कर दी। “

किरण इंस्टिट्यूट ने प्रतियोगिता को ओपन to आल स्टूडेंट्स रखा था और 300 रूपए देकर कोई भी इस प्रतियोगिता में शामिल हो सकता था ।

लखींद्र  300 रूपए लेकर  प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए  जमशेदपुर पहुंचे और तीसरे राउंड  में 200 नम्बरों में से 193 अंक हासिल कर प्रतियोगिता में दूसरा स्थान हासिल किया।

उनका कहना है “2 नम्बरों से मैं फर्स्ट पोजीसन को पाने से चूक गया 193 नम्बरों के साथ मैं दूसरे स्थान पर रहा और 195 नम्बरों के साथ प्रतियोगी पहले स्थान पर, इसका मुझे थोड़ा अफ़सोस तो है लेकिन मुझे दूसरे स्थान पर आने की भी खुशी है यह मेरे लिए और मेरे डिपार्टमेंट के लिए गौरव की बात है.”

लखींद्र महतो की सफलता पर उसके मेंटर प्रो. ओमप्रकाश सत्यम ने भी अपना विचार व्यक्त  करते हुए इस सफलता पर ख़ुशी  जताते हुए  लखींद्र को एक मेहनती स्टूडेंट बताया ।

विश्वविद्यालय के डिपार्टमेंट और मेकेनिकल डिपार्टमेंट के हेड ऑफ़ डिपार्टमेंट प्रो. श्रीपाल मिश्रा और सभी फैकल्टी मेंबर्स ने विभाग की तरफ से अपनी शुभकामना में विभाग के स्टूडेंट लखींद्र के उज्वल भविष्य की कामना व्यक्त  की है ।

(Story written by Prof. Prashant Jaiwardhan)

ROBOTS IN RANCHI, SUCCESSFUL BTECH STUDENTS

ROBOTS IN RANCHI – MEET THE JRU B.TECH TEAM WHO IS MAKING IT

What does a team of 6 B.Tech Computer Science final year students do when asked to do a project?

Make a robot! Unbelievable right!

But that is what the team of JRU students comprising of – Ankit Singh, Kiran Baral, Arati Sahu, Chandani Kumari, Suman Kumari and Bismillah – are doing.

Also Read – रामा की मखमली आवाज कैंपस में बनाती है अपनी अलग पहचान

These successful B.Tech final year students from Jharkhand Rai University, Ranchi  have just completed making a robot guided firefighting system. This kind of robotic system is extremely useful in tackling/extinguishing fire in tall buildings and sky-scrapers.

(FIND OUT MORE ABOUT BTech COURSE AT JRU)

ROBOTS IN RANCHI

JRU B.Tech Robots Team in Ranchi

Using an Arduino Uno board and connecting it with fire sensors, the robot can detect temperatures as they rise. The robot gets activated as soon as the temperature crosses a certain mark. Guided by its ultrasonic sensors, it then reaches the place of fire and activates the fire extinguishing systems. Because, this robot is equipped with a navigation system it can make its way through obstructions in path. In case of fire, the system guides the robot to reach the zone of high temperature caused by fire. A robot like this is enormously useful in handling fire at places where it is difficult for humans to reach easily.

Also Read – AN ENTREPRENEUR FROM RANCHI – VISHAL SAHU, JRU ALUMNI & FOUNDER, EMURGA.COM

Project based, hands-on learning is an important aspect of teaching at Jharkhand Rai University. It is the perfect way of guiding students to experiment on ideas. Moreover, any project lets you ask several questions/problems that you want to solve. Project-based education system help students develop scientific bent of mind and makes them solve problems which need answers.

Also Read – 31 REASONS WHY JRU CAMPUS IS UNIQUE?

The team of six students from JRU believes that engineering or science is not just about memorizing facts. It is about solving problems. And in this scientific journey, teachers are important mentors, who guide you towards the right direction.

For a world dominated by technology and digital, these students have glorious future waiting for them ahead.