Tag Archives: BEST ENGINEERING COLLEGE RANCHI

BEST ENGINERING COLLEGE RANCHI 3

FROM JRU, RANCHI TO SWEDISH COMPANY EPIROC – SUCCESS STORY OF SUBHADRA

Subhadra Mahato’s own career journey mirrors her recent success – to pursue a profession in engineering with a deep sense of passion and courage. She recently got selected as a Service Engineer during pool campus placement activity by a Swedish company Epiroc Mining India Limited, Pune. She has been offered a package of Rs 5 lakhs.

“Professor and mentors from my department have always helped me,” Subhadra says. She is a B.Tech Electrical student from Jharkhand Rai University, Ranchi.

BEST ENGINEERING COLLEGE RANCHI 1“No matter what I do, I always look towards the learning outcome of every activity. It does not matter whether I win or not. For me the learning opportunity I get at every step is more important in life.”

The interview at Epiroc Mining was a great experience for Subhadra who humbly says that besides her efforts, ‘blessing from mentors, my parents and elders helped me in my success.’

BEST ENGINEERING COLLEGE RANCHI

Before starting her journey at Jharkhand Rai University, she had clear career goals, i.e, to be an engineer. “School is the best time to define and redefine what we want to be in our career. One must follow their curiosities and make bold choices.”

In school Subhadra was always an active student. She participated in everything – starting from martial arts, to anchoring annual events, to learning archery. With a passion to learn and win, she won many prizes in different competitions.BEST ENGINEERING COLLEGE RANCHI 1“I eagerly look forward to my first job. I’m ready for this journey,” she says.

Everyone plays to win. But what makes Subhadra different is that she always plays to ‘learn’. This difference in perception is what fills her with clarity and confidence.

This University wishes her best of luck for the excellent career journey she is about to take.

Mining Symposium

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी में “प्रॉस्पेक्ट ऑफ़ अंडरग्राउंड कोल् माइनिंग इन इंडिया” विषय पर सिम्पोजियम का आयोजन।

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ़ माइनिंग इंजीनियरिंग के द्वारा सोमवार को ” प्रॉस्पेक्ट ऑफ़ अंडरग्राउंड कोल् माइनिंग इन इंडिया विषय पर ऑन लाइन सिम्पोजियम का आयोजन किया। इस अवसर पर व्याख्यान देने के लिए आईआईटी आईएसएम धनबाद में प्रोफेसर और कैरियर डेवलपमेंट सेल के चैयरमैन डॉ सतीश कुमार सिन्हा और झारखण्ड स्टेट पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड के उपाध्यक्ष एवं सीसीएल में डायरेक्टर फाइनेंस के तकनिकी सचिव संजय कुमार सिंह उपस्थित थे।

इस अवसर पर विभाग के फैकल्टी मेंबर और विभिन्न कॉलेज और यूनिवर्सिटी से 250 से ज्यादा स्डेंट्स ऑनलाइन जुड़े हुए थे।
प्रो. सतीश सिन्हा ने अपने संबोधन के दौरान अंडरग्राउंड माइनिंग से जुड़े कई तरीको का जिक्र किया जो बेहद सफल और प्रयोग में लाये जाते है। उन्होंने इस दौरान स्टूडेंट्स को अंडरग्राउंड माइनिंग से जुड़े कई कार्यों से भी अवगत कराया। इसके अलावा माइन एनवायरनमेंट, मिनरल कन्जर्वेशन और वर्क कल्चर के बारे में भी विस्तार से बताया।

इस दौरान स्टूडेंट्स ने दोनों वक्ताओं से प्रश्न पूछे जिनमें कार्य के तरीके, अनुभव और माइनिंग सेक्टर से जुड़े अवसरों से जुड़े सवाल थे। कार्यक्रम के सफल आयोजन में प्रो. रश्मि की महत्वपूर्ण भूमिका रही। इस अवसर पर माइनिंग डिपार्टमेंट के कोर्डिनेटर प्रो. सुमीत किशोर भी उपस्थित थे।

facilitation

झारखण्ड राय विश्वविद्यालय को रक्त दान के लिए सर्वाधिक प्रेरित करने का अवार्ड

झारखण्ड राय विश्वविद्यालय, रांची को ब्लड बैंक रिम्स, रांची द्वारा वर्ष 2019 में लोगों को रक्त दान के लिए सर्वाधिक प्रेरित करने के लिए पुरस्कृत किया गया है। विश्वविद्यालय द्वारा अपने परिसर में नियमित रक्त दान शिविर आयोजित करके सर्वाधिक मात्रा में ब्लड यूनिट भी जमा किया गया है। ब्लड बैंक रिम्स रांची द्वारा पिछले दिनों आयोजित वार्षिक सम्म्मान समारोह के दौरान स्वैक्षिक रक्त दान शिविर आयोजित करने और रक्त दान के लिए लोगों को प्रेरित करने वाली संस्थानों और व्यक्तयों को सम्मानित किया गया।

रिम्स ऑडिटोरियम में आयोजित वार्षिक समारोह के दौरान राज्य के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी, रिम्स रांची की निदेशक मंजू गाड़ी, सीआरपीएफ के पुलिस महानिरीक्षक डॉ. महेश्वर दयाल, सीआईएसफ के पुलिस महानिरीक्षक अनिल कुमार सिंह , पुलिस महानिरीक्षक जगुआर साकेत कुमार सिंह, झारखण्ड एड्स कण्ट्रोल सोसाइटी के प्रोजेक्ट डायरेक्टर राजीव रंजन, रिम्स रांची के चिकित्सा पुलिस महानिरीक्षक डॉ. डी. के. सिन्हा, ब्लड बैंक रिम्स रांची की डॉ. सुषमा कुमारी एवं आयोजन के सदस्य उपस्थित थे।

विश्वविद्यालय में वर्ष भर आयोजित होने वाले रक्त दान शिविर के आयोजन और छात्र छात्राओं को रक्त दान की उपयोगिता और जीवन रक्षा में इसकी महत्वपूर्ण भूमिका से अवगत करने का कार्य डिपार्टमेंट ऑफ लाइफ स्किल्स की प्रो. रश्मि राज के द्वारा किया जाता है। इनके व्यक्तिगत प्रयासों से छात्रों और कर्मचारियों को आकस्मिक जरूरत के समय ब्लड भी उपलब्ध करवाया जाता रहा है। कार्यक्रम में विश्वविद्यालय का प्रतिनिधित्व करते हुए प्रो. रश्मि ने पुरस्कार ग्रहण किया।

विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉ पियूष रंजन ने विश्वविद्यालय को प्राप्त इस सम्मान के प्रति आभार व्यक्त करते हुए ब्लड डोनेशन के लिए लोगों को प्रेरित करने और एक वर्ष में सर्वाधिक यूनिट ब्लड जमा करने में शामिल सभी कर्मियों और छात्रों के अथक प्रयास को इसका श्रेय दिया। उन्होंने प्रो रश्मि के व्यक्तिगत प्रयासों की भी सराहना की जिनके अथक प्रयासों से समय समय पर कार्यक्रमों का आयोजन होता रहा है। डॉ. रंजन ने ब्लड बैंक रिम्स रांची के कार्यों की भी सराहना की है।

Webinar Civil

Expert Talk: “Indian Steel Industry – A Perspective & Indigenous Stride in Capacity Build-up”

Speaker: Mr. Sidhartha Chakravarty
Advisor to M/s NMDC Limited Hyderabad a NavaRatna PSU &
Ex- Executive Director (Technical Services) in MECON, Ranchi.

Date: September 20, 2020 / Time: 5.00 pm

Register now Link
Feedback Form Link:
WhatsApp Group:

Meeting Platform: WebexMeet

Meeting Platform Link

Organized by Department of Mechanical Engineering

Webinar JRU and YSM

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी में भारतीय अर्थव्यवस्था का पुनरुत्थान और कोविड 19 के बाद रोजगार के अवसर विषय पर वेबिनार का आयोजन

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी, रांची कमड़े कैंपस और योगदा सत्संग महाविद्यालय, रांची के संयुक्त तत्वाधान में “Resurgence of Indian Economy and Employment Opportunities Post Covid-19” विषय पर वेबिनार का आयोजन किया गया। वेबिनार सिस्को वेबेक्स और युट्यूब के जरिये आयोजित किया गया। विधिवत शुरुवात से पहले दीप प्रज्वलित कर सरस्वती वंदना की गयी। वेबिनार का संचालन झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी के कंप्यूटर लैब से प्रो. रश्मि ने किया। विषय प्रवेश करते हुए योगदा सत्संग महाविद्यालय के प्रिंसिपल सह अतिरिक्त सचिव ब्रिगेडियर डॉ. अनिल शर्मा ने कोविड 19 के बाद के भविष्य और एजुकेशन सेक्टर में आने वाले अवसरों से अवगत कराते हुए ऑनलाइन एजुकेशन की चुनौतियों और समाधान पर विचार व्यक्त किया।

वेबिनार के मुख्य वक्ता अरिजीत डे, निदेशक डीवाईएलवाईएस बिजनेस सर्विसेस ने सम्बोधन के दौरान भारत की अर्थव्यवस्था को समझाते हुए आने वाले अवसरों पर विस्तार से अवगत कराया। सत्र के दौरान सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने भारतीय अर्थवयवस्था और वर्तमान परिस्थियों पर पूछे गए सवालों का जवाब दिया। वेबिनार में 1700 से ज्यादा स्टूडेंट्स सम्मिलित हुए।

कार्यक्रम के अंत में झारखंड राय यूनिवर्सिटी, रांची के रजिस्ट्रार डॉ. पीयूष रंजन ने अपने धन्यवाद ज्ञापन किया। उन्होंने कहा की बड़ी संख्या में स्टूडेंट्स, रिसर्च स्कॉलर, और फैकल्टी ने शामिल होकर वेबिनार को सफल बनाया इसके लिए सभी का विश्वविद्यालय परिवार की तरफ से धन्यवाद। उन्होंने योगदा सत्संग महाविद्यालय के प्रिंसिपल डॉ. अनिल शर्मा, व्याख्याता अरिजीत डे, प्रो. अनिर्बन विस्वास और आईटी टीम का भी धन्यवाद किया।

Webinar-Yogoda-College

Resurgence of Indian Economy and Employment Opportunities Post COVID 19

Speaker: Mr. Arijit Dey
Director- DYLIS Business Services Pvt Ltd, Mumbai

Date: 4 July, 2020
Time: 11:00 am – 12:00 noon
Meeting Platform : Cisco WebEx Meetings

Click here to Register

WhatsApp Groups Links:

Webinar Commerce WhatsApp Group 1
Webinar Science WhatsApp Group 1
Webinar Arts WhatsApp Group 1
Webinar BBA/BCA/IT WhatsApp Group 1
WhatsApp group for Academicians and Others
WhatsApp group for New 1
WhatsApp group for New 2

Organized by Jharkhand Rai University, Ranchi in association with Yogoda Satsanga Mahavidyalaya, Ranchi

RANCHI CBSE ICSE EXAMS

ICSE और CBSE बोर्ड परीक्षाएं रद्द । विश्वविद्यालयों में नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत अक्टूबर तक ।

सुप्रीम कोर्ट ने ICSE द्वारा आयोजित परीक्षा रद्द करने का आदेश दिया है. ICSE ने सुप्रीम कोर्ट को कहा है कि हम परीक्षा रद्द करने के लिए सहमत हैं। इसलिए अब ICSE बोर्ड की परीक्षाएं भी रद्द कर दी गई है। स्टूडेंट्स प्रोन्नति देने में आंतरिक मूल्यांकन प्रणाली का पालन होगा. हालांकि ICSE ने बाद में परीक्षा देने का विकल्प नहीं रखा है।

इधर सीबीएसई (CBSE) बोर्ड की बची हुई परीक्षाओं को लेकर चल रहा सस्पेंस खत्म हो गया है। सीबीएसई ने आज इस मसले पर अपना अंतिम फैसले में बताया की एक जुलाई से 15 जुलाई के बीच होने वाली वालीं बोर्ड परीक्षाएं रद्द की जाती हैं।

इस मसले पर 25 जून को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। हालांकि, 12वीं बोर्ड के बच्चों को एग्जाम देने का विकल्प भी दिया जाएगा, लेकिन यह तब होगा, जब हालात बेहतर हो जाएंगे। अगर 12 वीं के छात्र परीक्षा देने का विकल्प चुनते हैं तो उनके लिए परीक्षा आयोजित की जा सकती हैं, लेकिन यह तभी हो पाएगा, जब हालात बेहतर हों जाएंगे।

कोरानावायरस संक्रमण से पीड़ित लोगों की संख्या में वृद्धि को देखते हुए विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों में अंतिम वर्ष के छात्रों की जुलाई में होने वाली परीक्षाएं रद्द की जा सकती हैं।

नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत को अक्टूबर तक टाला जा सकता है। मानव संसाधन मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) को कहा है कि वह इंटरमीडिएट और अंतिम समेस्टर परीक्षा और शैक्षणिक कलेंडर के संबंध में पहले से जारी दिशा-निर्देशों का पुनरीक्षण करे ।

Webinar-20-June-CSIT-04

Best Practices to get early Placement in IT Companies

Speaker: Mr. Sandeep Kumar Alumni of Jharkhand Rai University, Ranchi

Associate Software Engineer, Mphasis Limited, Bangalore

Date: 20 June, 2020
Time: 7:00 pm – 8:00 pm

Meeting Platform: Webex

Register Now Link:

WhatsApp Group Link:

Organized by Department of CS & IT, Jharkhand Rai Univerity, Ranchi

Webinar 25 May Mechanical

Webinar on: “The Art of Balanced Living and Spiritual Growth”

Speaker: Dr. S.C. Mishra
Ex General Manager, Tata Steel. Management Consultant & Proprietor, R S Management Consultant.

Date: May 25, 2020
Time: 11:00 am

Platform : WebEx Meet
Meeting Platform Link
Webex Meeting Number: 910534024

Register now
Feedback Form Link
WhatsApp Group Link

Organized by Department of Mechanical Engineering, JRU

BEST ENGINEERING COLLEGE RANCHI

WHY ENGINEERS WILL BE IN DEMAND FOR INDIA’S GROWTH AFTER LOCKDOWN PHASE?

Foreign firms are wanting to move out of China due to the current Covid19 pandemic.

The good news is – around one thousand companies are in discussions with the Government of India to set up their production base in India. This scenario has prompted a few state governments to become proactive and capitalise on the opportunity.

COMPANIES WILL NEED SKILLED ENGINEERS

Inviting foreign investors, will not be enough. Foreign firms who set up manufacturing units in India will need abundant resources like skilled manpower.

BEST ENGINEERING COLLEGE RANCHI

Be it construction of manufacturing units or post-construction, theses Manufacturing units and technology companies will need Engineers who have the knowledge and skills to work in such high-tech manufacturing units. Engineers who know their jobs in real sense will be hired.

ALSO SEE – DEPARTMENT OF CIVIL ENGINEERING

ALSO SEE – DEPARTMENT OF ELECTRICAL ENGINEERING

It is time for Engineers to grab the jobs these foreign companies will create in India.

WHAT KIND OF SKILLS WILL BE MORE IN DEMAND?

Technology and engineering skills remain the most in demand. Secondly, soft skills are growing in prominence too.

You may ask – Why? Because, besides technical skills, soft skills such as creativity, problem solving and critical thinking are in demand. That is because creativity helps in the application of new technology and helps business growth.

Good communication skills to deal with foreign clients will be an important ability that an engineer must have.

A report by LinkedIn says that creativity, adaptability, collaboration and time management allow people to navigate new information and make decisions effectively.

BEST ENGINEERING COLLEGE JHARKHAND

In India, most employers feel that soft skills are important for career progression. Companies also feel that it is difficult to find people with soft skills.

ATMANIRBHAR BHARAT ABHIYAAN (COVID RELIEF PACKAGE)

When foreign companies set up their production base in India, engineers will be in high demand. Besides, the Atmanirbhar Bharat Abhiyaan (Covid relief package) has laid down the blueprint for bold reforms to make India self-reliant.

This is done with a view so that any crisis in future could be efficiently handled.

ALSO SEE – B.TECH MECHANICAL

ALSO SEE – BACHELOR OF COMPUTER APPLICATION (BCA)

The coronavirus epidemic has disrupted operations and the supply-chains due to factory shut downs in China since February 2020.

For the last 3 decades, China has been the world’s factory. Almost 50 per cent of China’s growth comes from exports. And it creates millions of jobs in China.

ALSO SEE – MASTER OF COMPUTER APPLICATION

ALSO SEE – UG, PG AND DIPLOMA PROGRAMS

Now that markets across the world are gradually preparing to put economies back on track, India could be the brightest spot among the emerging economies when it comes to attracting FDI.

“Make in India” will become a success soon.

BEST ENGINEERING COLLEGE JHARKHAND

Meanwhile a new world order is emerging. The differences between US-China on trade, the lack of transparency in handling the Covid19 situation by China, intellectual property rights, and geo-political issues, are here to stay. Hence, foreign companies dependent on China are now looking to diversify the risk to their supply chain by moving out of China.

And India offers them the best alternative. Make In India initiative will become a success soon.

BUT HOW?

Today, India is the world’s fifth largest economy. India offers abundant labour force. Our country offers the best alternative in terms of depth and size of the markets.

India is a young and aspirational economy. With median age of 27 and around 900 million “working-age” population, the nation is an attractive destination for investors.

In the past, China used its huge labour force in manufacturing which attracted FDI. The time for India has arrived to do the same, especially when foreign firms are looking for an alternative manufacturing base.

UNDP REPORT – RISING INDIA

According to a UNDP report, India will have a working age population of 1.14 billion. Population aside, the rapid urbanisation offers a huge domestic market. Moreover, India is also a resource-rich country, which is an additional benefit for those looking to invest in this country.

Several international bodies have ranked India as one of the most favoured nations for FDI. Unlike China, India is a stable democracy.

It is time for young engineers to become a part of Make In India and contribute to the success of Rising India story.