झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी में मेडिकल राइटिंग ऐज ए कैरियर इन फार्मेसी पर वेबिनार का आयोजन

झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी डिपार्टमेंट ऑफ़ फार्मासूटिकल्स के द्वारा “मेडिकल राइटिंग ऐज ए कैरियर इन फार्मेसी” विषय पर एक दिवसीय वेबिनार का आयोजन शनिवार को किया गया। इस अवसर पर ऑनलाइन व्याख्यान देने के लिए एपीसीइआर अहमदाबाद में सीनियर मेडिकल राइटर डॉ. दीपिका उपस्थित थी।

उन्होनें ने वेबिनार को संबोधित करते हुए कहा की ” चिकित्सा लेखन विशेष लेखकों द्वारा वैज्ञानिक दस्तावेजों का निर्माण है। मेडिकल लेखक आमतौर पर वैज्ञानिकों, डॉक्टरों और अन्य विषय विशेषज्ञों के साथ मिलकर काम करता है ताकि प्रभावी दस्तावेज तैयार किए जा सकें जो अनुसंधान परिणामों और उत्पाद के उपयोग को स्पष्ट रूप से परिभाषित करें।

मेडिकल राइटिंग के प्रकार :

डॉ. दीपिका ने मेडिकल राइटिंग के प्रकारों पर प्रकाश डालते हुए उन बताया की इसे मुख्य रूप से दो प्रकारों में बांट सकते है

  • एजुकेशनल मेडिकल राइटिंग
  • रेगुलर लीटरचर राइटिंग ।

एजुकेशनल राइटिंग में जर्नल, एजुकेशनल मैटर्स,मार्केटिंग लिटेरेचर, पब्लिकेशन, प्रेस शामिल है जबकि रेगुलर राइटिंग में शोध सामग्री, नियम परिनियम एवं अन्य साहित्य सामग्री का समावेश होता है।

मेडिकल राइटिंग शैली :
एक अच्छा मेडिकल राइटर बनने के लिए चिकित्सा क्षेत्र का ज्ञान, शब्दावलियों की जानकारी और लेखन शैली का ज्ञान आवश्यक शर्त है। राइटिंग स्कील्स को दो भागों में विभाजित किया जाता है डोमेन नॉलेज स्किल्स और जेनेरल नॉलेज स्किल्स।

मेडिकल राइटर कैसे बने :

  • प्रोजेक्ट की सही जानकारी और लेखन उद्देश्य की पहचान ।
  • टारगेट ऑडियंस को समझते हुए एक स्तर का लेखन।
  • लेखन विषय का सम्पूर्ण ज्ञान।
  • चिंतन करने की छमता और ज्ञान और नए विचार का समावेश।
  • वैज्ञानिक सटीकता ।
  • विषय विस्तार के दौरान सावधानी।
  • स्पष्ट शब्दावली चयन।
  • कार्य में शामिल व्यक्तिओं के साध सही संचार और समनवय।
  • समय प्रबंधन का ज्ञान एवं समय सीमा के अनादर कार्य पूर्ण करने का भाव।

कैरियर विकल्प :

  • फार्मासूटिकल्स और बायोटेक्नोलॉजी कम्पनियाँ ।
  • अनुबंध आधारित कार्य ।
  • मेडिकल कम्युनिकेशन एजेंसी।
  • इसके अलावा फ्रीलांसर के तौर पर मेडिकल राइटिंग का कार्य करने वालों के लिए भी कई अवसर उपलब्ध है जिनमें मेडिकल के अलग अलग क्षेत्र में विशेषज्ञ के तौर पर लेखन कार्य शामिल है ।

मेडिकल राइटिंग पेशा अपनाने के लाभ :

  • घर से काम करने या किसी भी जगह से कार्य करने की आजादी।
  • सही और सटीक कार्य करने पर ज्यादा अवसर और कार्य।
  • आर्थिक लाभ ।
  • दूसरों को इस क्षेत्र में जोड़ने और प्रशिक्षित करने का अवसर।
  • वेबिनार के समापन पर स्टूडेंट्स के सवालों का जवाब भी डॉ. दीपिका द्वारा दिया गया। वेबिनार आयोजन में डिपार्टमेंट ऑफ़ फार्मासूटिकल्स के प्रो. हेमेंद्र और प्रो. प्रियंका का योगदान रहा। कार्यक्रम का संचालन प्रो. कोमल कृति ने किया।