Tag Archives: JSPC

JRU-Pharmacy-blog

वर्ल्ड फार्मेसी डे: फार्मेसी स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत कर रही है

दुनिया भर में 25 सितंबर विश्व फार्मेसी दिवस के रूप में मनाया जाता है। हर साल यह दिवस एक खास थीम पर आधारित होता है जिसे अंतरराष्ट्रीय फार्मास्युटिकल फेडरेशन तय करता है। इस साल अंतर्राष्ट्रीय फार्मासिस्ट दिवस की थीम है “फार्मेसी स्वास्थ्य प्रणालियों को मजबूत कर रही है” । पिछले वर्ष “एक स्वस्थ दुनिया के लिए कार्रवाई में फार्मेसी एकजुट” थीम इस दिवस को मानाने के लिए चुना गया था। भारत में महादेव लाल श्रॉफ को फार्मेसी के क्षेत्र में उनके योगदान के लिए भारतीय फार्मेसी का जनक माना जाता है।

हमें स्वस्थ रखने और विभिन्न बीमारियों को दूर करने में डॉक्टर्स के साथ-साथ फार्मासिस्ट का भी बड़ा रोल है। फार्मासिस्ट को ‘केमिस्ट’ भी कहा जाता है। यह एक ऐसा व्यक्ति होता है, जिसे दवाइयों के बारे में संपूर्ण जानकारी होती है।

वर्ल्ड फार्मेसी डे : फार्मेसी की पढ़ाई क्यों जरुरी है
https://www.jru.edu.in/programs/department-of-pharmacy/bachelor-in-pharmacy-b-pharm/

इंटरनेशनल फार्मास्युटिकल फेडरेशन (FIP) के नेतृत्व में हर वर्ष 25 सितंबर को विश्व फार्मासिस्ट दिवस मनाया जाता है। इसके साथ ही 19 से 25 सितंबर तक विश्व फार्मेसिस्ट सप्ताह का आयोजन भी किया जाता है। 2009 से प्रतिवर्ष 25 सितंबर को स्‍वास्‍थ्‍य क्षेत्र में महत्त्वपूर्ण भूमि‍का न‍िभाने वाले फार्मासिस्ट्स को समर्प‍ित यह दिन उन्हें सम्मान देने तथा उनके योगदानों को याद दिलाने के लिए मनाया जाता है। यह दिन हमें याद दिलाता है कि फार्मासिस्ट हमारे लिए कितने जरूरी हैं।

स्वस्थ जीवन का मूल सूत्र फार्मासिस्ट :
https://www.jru.edu.in/programs/department-of-pharmacy/diploma-in-pharmacy/

  • फार्मासिस्ट ना केवल दवाइयों के बारे में सलाह देते हैं बल्कि इसके साथ-साथ वे दवाइयां वितरित करने तथा टीकाकरण का काम भी करते हैं।साथ ही वे नई दवाओं का प्रशिक्षण, खोजें तथा रिसर्च भी करते हैं इसीलिए उन्हें दवा विशेषज्ञ (मेडिसिन एक्सपर्ट) भी माना जाता है। साथ ही कोई दवाई सुरक्षित और प्रभावकारी है या नहीं इसे सुनिश्चित करने का काम भी इन्हीं के कंधों पर होता है।
  • एक काबिल फार्मासिस्ट को यह भी पता होना चाहिए कि अलग-अलग दवाई एक दूसरे के साथ कैसे प्रतिक्रिया करती है।
  • हमारे स्वस्थ जीवन का मूल-सूत्र डॉक्टर्स के साथ-साथ फार्मासिस्ट भी है। इसलिए हमें डॉक्टरों के साथ ही फार्मासिस्टों का भी सम्मान करना चाहिए।

फार्मेसी की पढ़ाई समय की मांग:

  • झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी रांची में फार्मेसी की पढ़ाई से जुड़े दो कोर्सेज संचालित होते हैं। डिप्लोमा इन फार्मेसी और बैचलर ऑफ़ फार्मेसी। डिप्लोमा इन फार्मेसी 2 वर्षीय पाठ्यक्रम है जबकि बैचलर ऑफ़ फार्मेसी 4 वर्षीय पाठ्यक्रम है। फार्मेसी कौंसिल ऑफ़ इंडिया एवं झारखण्ड फार्मेसी कौंसिल से मान्यता प्राप्त ये दोनों ही पाठ्यक्रम संचालित हो रहे हैं।
  • फार्मेसी की पढ़ाई में व्यावहारिक ज्ञान आवश्यक शर्त है। लैब आधारित ज्ञान इसका महत्वपूर्ण अंग है। झारखण्ड राय यूनिवर्सिटी का डिपार्टमेंट ऑफ़ फार्मास्यूटिकल्स साइंस छात्रों को लैब आधारित ज्ञान देने को संकल्पित है। इसके अलावा यहाँ पढ़ने वाले छात्रों को देश की महत्वपूर्ण दवा कंपनियों में एक्सपोज़र विजिट के अलावा इंटर्नशिप करने का भी अवसर प्रदान किया जाता है।